अगर ऐसा हुआ तो 10 साल की सजा के बाद भी अनंत सिंह विधायक बने रहेंगे, जानें पूर्व MLA के वकील का जवाब

मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह को कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है. AK-47 मामले में MP-MLA कोर्ट ने अनंत सिंह को यह सजा सुनाई है. अनंत सिंह को 14 जून को ही पुश्तैनी घर से AK47 और ग्रेनेड बरामदगी मामले में एमपी-एमएलए कोर्ट ने दोषी करार दिया था. सजा का ऐलान होते ही अनंत सिंह की विधानसभा की सदस्यता जानी तय है. ऐसे में विधायक अनंत सिंह के वकील सुनील कुमार ने बताया कि कैसे उनकी विधायकी बच सकती है. अनंत सिंह के वकील ने कहा कि हाईकोर्ट में सजा के खिलाफ अपील करेंगे.

विधायक अनंत सिंह के वकील सुनील कुमार ने बताया कि कोर्ट ने एविडेंस, पांच टाइम से विधायक रहे हैं और उनके हेल्थ को देखते ओवरऑल 10 साल की सजा सुनाई है. जो भी सजा चलेगी साथ साथ चलेगी. ऐसा नहीं है कि एक सजा पूरा हो गया तो दूसरे सेक्शन का सजा चलेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट से स्टे लग जाएगा तो विधायक बने रहेंगे. जजमेंट की कॉपी मिलते ही हमलोग हाईकोर्ट में अपील करेंगे.

बाहुबली विधायक के बाढ़ के लदमा गांव स्थित पुश्तैनी घर से एक AK-47, 26 गोली, 2 हैंड ग्रेनेड और एक मैगजिन बरामद हुआ था. इस केस में अनंत सिंह करीब 34 महीने से पटना के बेउर जेल में बंद हैं. दरअसल साल 2019 में अनंत सिंह के पैतृक आवास से पटना पुलिस को छापेमारी में आधुनिक हथियार एके 47 राइफल, कारतूस और हैंड ग्रेनेड मिले थे. जिसके आधार पर 16 अगस्त 2019 को बाढ़ थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी. इस केस में IPC के साथ ही आर्म्स एक्ट और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धाराओं का इस्तेमाल किया गया है. इन धाराओं के आधार पर विधायक अनंत सिंह को कम से कम 7 साल या इससे अधिक उम्र कैद की सजा मिल सकती थी. ऐसे में 10 साल की सजा मिलते ही अनंत सिंह को अपना विधायक पद भी गंवाना पड़ेगा. क्योंकि कानून के मुताबिक 2 साल से अधिक की सजा मिलने पर ऐसा प्रावधान है.

बता दें कि विधायक अनंत सिंह एवं केयरटेकर सुनील राम के खिलाफ बाढ़ अनुमंडल की तत्कालीन एएसपी लिपी सिंह द्वारा जांच कर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया गया था. फिर इसके बाद एमपी-एमएलए कोर्ट ने इस मामले में विधायक अनंत सिंह और केयरटेकर के खिलाफ 15 अक्टूबर 2020 में आरोप गठित तिया था. बताया जाता है कि इस मामले की सुनवाई के दौरान नियुक्त विशेष लोक अभियोजक ने 13 पुलिस वालों को कोर्ट में पेश किया. जबकि दूसरी ओर अनंत सिंह की ओर से बचाव पक्ष ने 33 गवाह पेश किए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *