बिहार के पूर्णिया में लव जेहाद का एक और मामला

शमशाद ने एक दो नही बल्कि 12 हिन्दू लड़कियों को प्रेमजाल में फंसा कर शादी की, जिनमे से आधी नाबालिग

इस्लामिक कट्टरपंथियों ने शादी को एक मजाक बना के रख दिया है। कभी 3-3 बीवियों से शादी कर तलाक देकर लड़कियों की जिंदगी का मजाक बनाते है, तो कभी धोखे में रख कर 10-10 शादियां करते है। ऐसी एक खबर बिहार से सामने आई है। जहां जिहादी ने एक नहीं, दो नहीं, 12 लड़कियों को प्रेमजाल में फंसा कर उनके साथ शादी की।

इस्लामिक कट्टरपंथियों ने शादी को एक मजाक बना के रख दिया है। कभी 3-3 बीवियों से शादी कर तलाक देकर लड़कियों की जिंदगी का मजाक बनाते है, तो कभी धोखे में रख कर 10-10 शादियां करते है। ऐसी एक खबर बिहार से सामने आई है। जहां जिहादी ने एक नहीं, दो नहीं, 12 लड़कियों को प्रेमजाल में फंसा कर  उनके साथ शादी की। हर बार वह खुद को कुंवारा बताकर भोली भाली लड़कियों को फंसाता था। आखिरकार एक नाबालिग लड़की के अपहरण के मामले में वह पुलिस के जाल में फंस ही गया।

दरअसल, जिहादी की पहचान शमशाद उर्फ मनोवर के रूप में हुई है। शमशाद की सात बीवियों ने पुलिस के समक्ष कहा है कि उसने उन्हें झांसा देकर प्रेम जाल में फंसाया और फिर उनसे शादी की। इनमें से किसी भी लड़की को यह नहीं पता था कि वह पहले से शादीशुदा है। इनके बयानों के बाद शमशाद के खिलाफ अपहरण, धोखाधड़ी और अन्य धाराओं में केस दर्ज किया गया है। उसे पूछताछ के बाद जेल भेज दिया गया।

आपको बता दें कि इस धोखेबाज को गिरफ्तार करने में पूर्णिया पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। वह छह साल से पुलिस को चकमा दे रहा था। उससे पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। शमशाद कोचाधामन थाना क्षेत्र के अनारकली गांव का निवासी है। पूर्णिया पुलिस ने उसके खिलाफ अनगढ़ थाना क्षेत्र के बिजवार गांव में एक नाबालिग के अपहरण का केस दिसंबर 2015 में दायर किया था। अपहरण के एक सप्ताह बाद पुलिस ने अपहृत नाबलिग लड़की को किशनगंज से बरामद किया था, लेकिन आरोपी शमशाद फरार हो गया था। 

बता दें कि बीते छह सालों से शमशाद को पकड़ने के लगातार प्रयास चल रहे थे। नाबालिग लड़की के पिता ने उसके खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने उसे बहादुरगंज थाना क्षेत्र के कोइडांगी गांव से दबोच लिया है। उससे पूछताछ व जांच में खुलासा हुआ कि आरोपी एक दर्जन शादियां कर चुका है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *