शारदापीठ तथा ज्योतिष्पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वतीजी महाराज का देहावसान !

हिन्दू धर्म के लिए धधकती ब्राह्मतेज की ज्वाला शांत हो गई ! – सनातन संस्था चेतन राजहंस, प्रवक्ता, सनातन संस्था, (संपर्क : 77758 58387) द्वारका स्थित शारदापीठ तथा बद्रिकाश्रम के…

Read More »

चुनौतियों को अवसर में बदलकर भारत ने दी अर्थव्यवस्था को रफ्तार

-मनोज कुमार सिंह*   अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भारत को बड़ी सफलता मिली है। ब्रिटेन को पछाड़कर भारत अब दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। ब्रिटेन पांचवें…

Read More »

श्री हनुमान जयंती निमित्त देशभर में 218 स्थानों पर ‘गदापूजन’ संपन्न !

हिन्दू राष्ट्र की स्थापना को बल मिलने तथा हिंदुओं में शौर्यजागरण करने के लिए रमेश शिंदे,राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिन्दू जनजागृति समिति.संपर्क क्र.: 99879 66666 प्रभु श्रीराम की कृपा से रामराज्य अर्थात…

Read More »

सनातन के ग्रंथ : न केवल ज्ञान, अपितु चैतन्य के दिव्य भंडार !

सनातन संस्था द्वारा पूरे भारत में चलाएं जा रहे ‘ज्ञानशक्ति प्रसार अभियान’ के निमित्त… सनातन के ग्रंथ अर्थात ईश्‍वरी चैतन्य, साथ ही आनंद और शांति की अनुभूति देनेवाला साहित्य । सनातन…

Read More »

हॉकी में ब्रॉन्ज मेडल: 4 दशक के बाद टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम ने रचा इतिहास, जर्मनी को 5-4 से हराया

टोक्यो ओलंपिक के 14वें दिन यानी गुरुवार (5 अगस्त) को भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जर्मनी को करारी शिकस्त देकर ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा कर लिया।…

Read More »

भगवान शिव की उपासना के लिए सबसे उत्तम मास – श्रावण मास

भगवान शिव के प्रिय मास सावन या श्रावण मास में भगवान शिव और उनके परिवार की विधिपूर्वक पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, सावन माह में भगवान शिव…

Read More »

अखिल विश्व के जिज्ञासुओं के लिए 11 भाषाओं में ‘ऑनलाइन गुरुपूर्णिमा महोत्सव’ उत्साहपूर्ण वातावरण में संपन्न !

आपातकाल में जीवित रहने के लिए तो साधना करें ! – निलेश सिंगबाळ आपका, गुरुराज प्रभु सनातन संस्था (संपर्क: 93362 87971) पटना – संकट के समय सहायता मिलें; इसलिए हम अधिकोष (बैंक में) पैसे रखते हैं…

Read More »

धर्मसंस्थापना के लिए सर्वस्व का त्याग करें ! –

गुरुपूर्णिमा के अवसर पर संदेश ! (परात्पर गुरु) डॉ. जयंत आठवले, संस्थापक, सनातन संस्था ‘गुरुपूर्णिमा गुरु के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है । इस दिन प्रत्येक श्रद्धावान हिन्दू…

Read More »

गुरुपूर्णिमाका महत्त्व एवं आपातकालीन स्थिति में धर्मशास्त्र के अनुसार गुरुपूर्णिमा कैसे मनाए !

‘गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्‍वरः। गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥ अर्थ :गुरु स्वयं ही ब्रह्मा, श्रीविष्णु तथा महेश्‍वर हैं । वे ही परब्रह्म हैं । ऐसे श्री गुरु को मैं नमस्कार…

Read More »

गुरुपूर्णिमा विशेष : भारतीय परम्परा की अद्वितीय विशेषता है, *”गुरु-शिष्य परंपरा”*

गुरु के प्रकार एवं गुरु का अंतःदर्शन गुरुओं के प्रकार वैद्य तीन प्रकार के होते हैं – अच्छे, मध्यम और कनिष्ठ। कनिष्ठ चिकित्सक वह होता है जो नाडी देखकर ‘दवा…

Read More »