होली मिलन समारोह डिजिटल रूप से आयोजित, जिसमे ख्यातिप्राप्त कवियों ने हिस्सा लिया और उन्हें पुरष्कृत किया गया

VIR-BHOGYA-VASHUNDRA-PRISE-LATTER

ग्लोबल वसुधैव एसोसिएशन® ने क्रिएटिव विजन सोसाइटी और टीम वीर भोग्या वसुंधरा के सहयोग से वर्चुअल / डिजिटल रूप से एक कवि सम्मेलन प्री-फाइनल कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित किया

यह संस्था डिजिटल माध्यम से २०२३ तक हर राज्यों के विभिन्न भाषाओं के कवि – कव्यित्रीयों , गायक- गायिकाओं का आह्वाहन करता रहेगा।

अतएव, आगामी सभी डिजिटल प्री-फाइनल एवं फाइनल मुकाबले के लिए *वीर भोग्या वसुंधरा* कवि सम्मेलन समारोह में आप सभी प्रेस के महानुभावों का सादर अभिवादन एवं आमंत्रण रहेगा।

पूरे देश से दिग्गज कवियों ने इस पूर्व- प्रतिस्पर्धा में भाग लिया।प्री-फाइनल कार्यक्रम का आयोजन राजीव महिया , गणेश, पूजा शर्मा , गौरव जैसवाल , सत्यम कुमार और सात्विका , कवि रंजीत , विपुल सत्यम – टीम वीर भोग्या वसुंधरा एवंटीम अमीत बिसानी , अवधी , पूजा – एग्जिबिशन क्लाउड के सहयोग से द्वारा सफलतापूर्वक आयोजित किया गया।

• वरिष्ठतम कवि – चक्रधर प्रसाद सिंह जिन्होंने २७०+ से अधिक पुस्तकें लिखीं और १००+ भजन ने हिंदी / माघी स्व-लिखित कविताओं का पाठ किया।• मोहन सिंह रत्नू जी पूर्व सेवानिवृत्त आईपीएस – भी अपनी देशभक्ति कविताओं के माध्यम से राष्ट्रवादी रंग लाए।• राजस्थान के युवा गोविंद, आकाश, भारत, रवि दर्शन ने अपनी कविताओं के माध्यम से देशभक्ति की भावना जगाई।गायिकापूजा उपाध्याय एवं गायक अर्चित आकर्श ने अपनी सुरीली आवाज से समारोह में चार चांद लगा दिए।

ग्लोबल वसुधैव एसोसिएशन ने क्रिएटीव विजन सोसाइटी और टीम वीर भोग्या वसुंधरा के सहयोग से डिजिटल रूप से एक कवि सम्मेलन आयोजित किया जिसका ६ मार्च को प्रि-फाईनल व १८ मार्च को होली मिलन समारोह के साथ फाईनल समाप्त किया गया। जिसके अध्यक्षा ज्योत्सना झा जी रहे। 

इस डिजिटल कार्यक्रम का उद्घाटन गणेश वंदना से शुरू हुआ जिसको गायिका पूजा उपाध्याय द्वारा “देवा श्री गणेशा” के रूप प्रस्तुत की गई। 

                   साथ ही स्टार गायक शंकर जी ने अपने गाये गीत ” होली के दिन दिल मिल जाते हैं”, ए मेरे प्यारे वतन, लेना होगा जन्म कई – कई बार, देखो देखो देखो ये होली और खाईके पान बनारस वाला आदि गीतों से अपनी गायकी से चार चांद लगा दिये, साथ ही संस्था की दिवंगत संस्थापिका २० वर्षों से क्रिएटीव विजन सोसाइटीसंचालन करते आ रही सुश्री जयंती झा जिनका निधन कोरोना काल में होने पर सभी ने २ मिनिट की श्रृंद्धांजली अर्पित की।


इस कवि सम्मेलन में देश के ख्यातनाम कवियों ने अपनी रचनाओं को उकेरा जिसमें वरिष्ठतम कवि चक्रधर प्रषाद सिंह जी ने “कौन कलम के कारीगर को व्यापारी कहता हैं” से सभी कलमकारों की सराहना की। युवा कवि गोविंद चारण ने अपने होली के गीत में होली के माहौल को दर्शाते हुए राजनिती पर भी पंच कसा ” बसंत की बहार में नेता जी अपने प्रचार में” से खूब वाहवाही लूटी।साथ ही साथ कवि इन्द्र दान जी चारण ने अपनी रचना “बेटी तुम जगत जनैता हो करता मन अर्पण अभिनंदन” ने मंत्रमुग्ध कर दिया।

इसके साथ ही भारत माता के सच्चे सपूत सेवानिवृत्त आर. पी. एस. मोहन दान जी रतनू ने अपनी राजस्थानी रचना से युवा शक्ति को संदेश प्रदान किया। श्रृष्टि त्रिपाठी ने वीररस में देशभक्ति माहौल खड़ा कर दिया , सुदेशना देवल ने अपनी गजल से राजस्थान के झीलों एवं गौरव को प्रस्तुत किया।

माननीय निर्णायक गण की भूमिका –
• श्री अनिल मेरानी- प्रमुख मीडिया पत्रकार, मुंबई। द् टाईम्स आफ इंडिया एवं डीजिटल समीक्षक।
• जयंती झा जी-पूर्व डेंटिस्ट एवं समाजसेवीका , कुशल गृहिणी।
• राजीव माईया,करनी सेना महाराष्ट्र युवा सचीव, एमबीए फीनांस
• भास्कर रेड्डी पटलोला,मीडिया प्रभारी, वी बि वी अधिवक्ता, हैदराबाद एवं सनातन धर्म के जमीनी नेता।

ज्ञात हो, कि यह संस्था विगत २० वर्षों से जमीनी स्तर पर समाज की सेवा में लगा हुआ है। नाबार्ड , यूनिसेफ , यूएनडीपी , एड्स नियंत्रण सोसाइटी , कैंसर एसोसिएशन , आर्ट ऑफ लिविंग , सरकारी और कारपोरेट , कोटक महिंद्रा , एसबीआई एवं महानगरपालिकाओं , पंचायत समिति सभी के साथ मिलकर ५०००+ लोगों के जीवन को बदला हैं।कोरोना महामारी में हजारों की मदद की है।विशेषकर अध्यक्षा एवं संस्थापकज्योत्स्ना झा ने ५००+ लोगों की आईसीयू में जान बचाई है और बेंगलूर में पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा जी ने इनके टीम को कार्य (१००००० भूखों को खाना खिलाने) के लिए भी सम्मानित किया है।

संगठन ने पहले ही इस तरह के कई कार्यक्रमों और मंच पर कार्यक्रमों का आयोजन किया है और ४५००+ विवाह आयोजित किए हैं।
संस्थान की यह सोच है की ऐसे दिग्गज राष्ट्रप्रेमी कलाकारों का निरंतर प्रोत्साहन आवश्यक है।
सांस्कृतिक विविधता के साथ-साथ समाज में शांति, समृद्धि, सद्भाव लाना हमारे संगठन का औचित्य है।कृपया हमें एक बेहतर समाज और देश बनाने में मदद करें।
आगामी सभी डिजिटल प्री-फाइनल एवं फाइनल मुकाबले और दिल्ली/ मुंबई / बैंगलोरस्टेट पर आयोजित होने वालेग्रैंड फाइनल एवं ग्रैंड स्लेम फाइनल में भीआप सभी प्रेस महानुभावों को सादर आमंत्रण है एवं सूचित किया जाएगा ।

………………………………………………………….

*वीर भोग्या वसुंधरा* कवि सम्मेलन २०२२ में आप सभी का सादर अभिवादन एवं आमंत्रण।
 मार्च १८ संध्या ५ से कवि सम्मेलन का दिव्तीय दिव्तीय चरण इंटरनेट फाइनलद्वारा जूम ऐप एवं विषेश ३ डी दर्शन तरीके से प्रस्तुत एवं मिडिया में प्रसारित हुआ, जो की अपने आप में एक अद्भुत तकनीक एवं कला का प्रमाण रही।
• ग्रैंड फाइनल हर राज्यों में होगा २०२२-२३ तक संपूर्ण।

• *ग्रैंड स्लैम फाइनल 2023* में आयोजित होगा !( दिल्ली या मुंबई में)*ग्रैंड स्लैम फाइनल 2023खिताब के *विजेता* को पुरस्कार स्वरूप १ लाख का चेक दिया जाएगा। इस ग्रैंड फाइनलअन्य विजेताओं को भी सम्मानित किया जाएगा।(१५ हजार से ७५ हजार तक की कैश पुरस्कार होगी)

२० मार्च को संध्या ४ बजे जूम ऐप कार्यक्रम के विजेताओं एवं सांत्वना विजेताओं का नाम बताया जाएगा। जिन्हें भारतीय सेमीफाइनल में सीधा प्रवेश मिलेगा।

(T & C’s – कैश पुरस्कार संपूर्ण स्पोंसर के मिलने पर निर्भर करता है!)
इस कार्यक्रम विशेष की स्पांसर / प्रायोजक मात्र मिलन ग्लोबल प्राईवेट लिमिटेड एवं संस्थान ग्लोबल वसुधैव एसोसिएशन के सदस्यों ने मिलकर की। संस्थापक की विशेष अपील है कि कला संस्कृति एवं एकता के इस अद्भुत तकनीकी कार्यक्रम में आप सभी यथासंभव सहयोग प्रदान करें।

आशा है भारतीय संस्कृति एवं स्वाभिमान का आपके द्वारा उद्घोष हो। देशप्रेम , धर्म और एकता का लक्ष्य लेकर चलिए इस पवित्र यात्रा पर हम सभी साथ चलते हैं। 

 *नियम -* 
• प्रत्येक माननिय कवियों से अनुरोध है कि वह इन बातों का ध्यान रखें।
• प्रत्येक कवि मात्र ०5 मिनट से अधिक समय ना ले, जिसमें उनका परिचय ( नाम , शहर / गांव ) और इस कवि सम्मेलन में भाग लेने का औचित्य भी अपने शब्दों में बताया जाए।
• रचना स्वरचित होनी चाहिए।( अगर किन्हीं और की है तो नाम बताएं।)
• स्वरचित रचनाओं को तवज्जो दी जाएगी।
• कार्यक्रम के अंत तक आपकी उपस्थिति अनिवार्य है।• दूसरे कवियों का प्रोत्साहन अवश्य करें।
• विषय – वीर रस , देशभक्ती , धार्मिक एवं दर्शन।
• कृपया निर्धारित समय से देर ना करें।
आभार।
 *निदेशक* 
शरद सालियन,सेविका ज्योत्स्ना भास्कर रेड्डी
 *टीम वीर भोग्या वसुंधरा*
साभार ज्योत्स्ना झा अध्यक्ष एवं संस्थापक ग्लोबल वसुधैव एसोसिएशन।
जय श्रीराम।
भारत माता की जय।जय हिन्द।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *