सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत राय की गिरफ्तारी पर लगाई रोक, पटना हाईकोर्ट ने पेश नहीं होने पर जारी किया था वारंट

इस वक्त की बड़ी खबर सामने आ रही है. सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह के मालिक सुब्रत राय की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है. जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने यह फैसला दिया है. सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एएम खानविलकर की पीठ ने सुब्रत राय की गिरफ्तारी पर रोक लगाईं है. सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक सहारा इंडिया के मालिक सुब्रत राय की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है. अब इस मामले में 19 मई को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. दरअसल पटना हाईकोर्ट ने शुक्रवार को बिहार-यूपी के डीजीपी (DGP) और दिल्ली पुलिस कमिश्नर को निर्देश दिया है कि हर हाल में सहारा इंडिया वाले सुब्रत राय को 16 मई को पेश करें. आज कोर्ट में हाजिर नहीं होने के बाद पटना हाईकोर्ट ने सुब्रत राय के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था.

गुरुवार को सहारा निवेशकों के मामले पर एक बड़ा फैसला करते हुए पटना हाईकोर्ट ने कहा था कि सुब्रत राय सहारा को शुक्रवार को कोर्ट में हाजिर होना ही होगा. हालांकि वह हाजिर नहीं हुए जिसके बाद सुब्रत राय के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया. जस्टिस संदीप कुमार के एकलपीठ ने फटकार लगाते हुए कहा कि सुब्रत राय सहारा कोर्ट से बड़े नहीं. कौन हैं सुब्रत राय जो कोर्ट नहीं आ सकते हैं, हमारे कोर्ट में उनको आना ही होगा. कोर्ट ने कहा कि उनको जहां जाना है जाएं, मगर हमारे कोर्ट में उनको आना होगा नहीं तो उनके विरुद्ध आदेश पारित होगा.

इससे पहले सुब्रत राय ने पटना हाईकोर्ट में अंतरिम आवेदन देकर फिजिकल उपस्थिति से राहत देने की मांग की थी. सुब्रत राय ने हाल में हुए अपने ऑपरेशन, उम्र और सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामले का हवाला दिया था. जिसे हाईकोर्ट ने खारिज करते हुए कहा कि इस मामले से जुड़े वकीलों की उम्र सुब्रत की उम्र से ज्यादा है. जब वृद्ध वकील कोर्ट में हाजिर हो सकते हैं तो सुब्रत हाजिर क्यों नहीं हो सकते. अब इस मामले में 16 मई को अगली सुनवाई होगी. दरअसल इससे पहले कोरोना गाइडलाइंस के चलते अब तक सुब्रत राय की वर्चुअल सुनवाई ही हुई है.

बता दें कि बिहार सहित देश भर के निवेशकों का पैसा सहारा इंडिया (Sahara India Case) के पास फंसा पड़ा है. सहारा इंडिया में फंसे पैसे कब वापस मिलेंगे, सहारा निवेशकों की निगाहें पटना हाईकोर्ट पर टिकी है. पटना ‌हाईकोर्ट‌ ने बीते 27 अप्रैल को सुब्रत राय सहारा को 11 मई को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया था. बुधवार, 11 मई को सहारा मामले पर सुनवाई नहीं हुई. इसके बाद गुरुवार 12 मई को सुनवाई होने की संभावना थी. लेकिन आज भी सुनवाई नहीं हुई. अब 13 मई को भी सुब्रत राय हाजिर नहीं हुए जिसके बाद उनके खिलाफ कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया.

बतातें चलें कि पटना हाईकोर्ट ने सहारा इंडिया के विभिन्न स्कीमों में उपभोक्ताओं द्वारा निवेश किये गए पैसे का भुगतान को लेकर दायर की गई हस्तक्षेप याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सहारा प्रमुख सुब्रत राय को 11 मई को हाजिर होने का आदेश दिया था. बतातें चलें कि इस मामले को लेकर 2000 से ज्यादा लोगों ने पटना हाईकोर्ट में हस्तक्षेप याचिका दायर किया था.

निवेशक कई सालों से अपने पैसे फंसने के कारण परेशान हैं और कोर्ट से लेकर सहारा के दफ्तर तक के चक्कर लगा रहे हैं. इस कंपनी के अलग-अलग स्कीमों में लोगों के करोड़ों रुपये फंसे हैं. बिहार सहित देश भर के निवेशकों का पैसा सहारा इंडिया के पास फंसा पड़ा है. सहारा इन निवेशकों को उनकी जमा रकम का मैच्योमरिटी पर भी भुगतान नहीं कर पा रहा है. इसके चलते तमाम अदालतों में मुकदमों की लाइन लगती जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *