क्यों ‘बागेश्वर धाम’ के धीरेंद्र शास्त्री को लक्ष्य बनाया जा रहा है ?

चमत्कारों का दिखावा कर हिन्दुओं का धर्मांतरण करनेवाले पादरियों को अंनिस का विरोध क्यों नहीं ? – श्री महंत सुधीरदास महाराज, नासिक

बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र शास्त्री धर्मांतरित लोगों को पुनः हिन्दू धर्म में लेने का कार्य कर रहे हैंइसके कारण एक षड्यंत्र के  द्वारा पंडित धीरेंद्र शास्त्री की प्रतिमा धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है । केवल पंडित धीरेंद्र शास्त्री ही नहींअपितु राष्ट्रीय स्तर पर हिन्दू धर्म तथा हिन्दू धर्म के साधुसंतों को बदनाम करने का एक बहुत बडा षड्यंत्र चलाया जा रहा है ।

अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के श्याम मानववामपंथी तथा कांग्रेस के कुछ लोग हिन्दू धर्म का कार्य बंद कैसे होइसके लिए योजनाबद्ध पद्धति से यह षड्यंत्र चला रहे हैंपरंतु यही लोग खुलेआम चमत्कारों के नाम पर धोखे से हिन्दुओं का धर्मांतरण करनेवाले ईसाई मिशनरियों अथवा पादरियों को कभी भी चुनौती देते हुए दिखाई नहीं देतेइसलिए हिन्दू धर्म को बदनाम करनेवालों को रोकने के लिए केंद्र सरकार कठोर कानून बनाएं ।

नासिक के ‘श्रीकाळाराम मंदिर’ के आचार्य महामंडलेश्वर श्री महंत सुधीरदास महाराज ने यह मांग की है । हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से ‘बागेश्वर धाम (पंडित धीरेंद्र शास्त्रीको लक्ष्य क्यों बनाया जा रहा है ?’ इस विषय पर आयोजित ‘ऑनलाइन’ विशेष संवाद में बोलते हुए उन्होंने उक्त मांग की ।

घरवापसी का कार्यक्रम करने से लेकर अंनिसवालों का पंडित धीरेंद्र शास्त्री को विरोध ! – श्रीरमेश शिंदे


      पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने जब से ईसाई मिशनरियों द्वारा धर्मांतरित किए गए हिन्दुओं की घरवापसी करना आरंभ कियातब से ‘अंनिस’ने पंडित धीरेंद्र शास्त्री के कार्य का विरोध करना आरंभ किया है । क्या पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने किसी के साथ धोखाधडी अथवा किसी का शोषण किया है श्रद्धा अथवा अंधविश्वास का सूत्र प्रत्येक व्यक्ति की श्रद्धा पर निर्भर होता है । किसी भी विश्वविद्यालय की उपाधि न होते हुए भी स्वयं को संमोहन चिकित्सा विशेषज्ञ माननेवाले ‘अंनिस’ के श्याम मानव क्या लोगों से धोखाधडी नहीं कर रहे हैं हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीरमेश शिंदे ने यह मत व्यक्त किया ।

     ‘सुदर्शन न्यूज’ की नागपुर की पत्रकार श्रीमती स्नेहल जोशी ने कहा, ‘पंडित धीरेंद्र शास्त्री के नागपुर के कार्यक्रम की पत्रकार परिषद में मैं पत्रकार के रूप में उपस्थित थी । उस समय पंडित धीरेंद्र शास्त्रीजी ने नागपुर का अपना कार्यक्रम से 11 जनवरी तक होगाऐसा घोषित किया था तथा बागेश्वर धाम व्यवस्थापन ने जनवरी को ट्वीट कर इन्हीं तिथियों की घोषणा की थीपरंतु कुछ त्रुटियों के कारण पंडित धीरेंद्र शास्त्री का नागपुर का कार्यक्रम से 13 जनवरी तक होगाऐसा घोषित किया गया था । समन्वय के अभाव के कारण तिथियां घोषित करने में त्रुटियां होने का अनुचित लाभ उठाकर अंनिसवालों ने धीरेंद्र शास्त्री अपनी चुनौती का अस्वीकार  कर भाग गएऐसा दुष्प्रचार कर उन्हें बदनाम किया ।

आपका विनम्र, श्री. रमेश शिंदे, राष्ट्रीय प्रवक्ता, हिन्दू जनजागृति समिति (संपर्क : 99879 66666)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *