पटना, बक्सर : 8वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर योग शिविर एवं जागरूकता कार्यक्रम का किया गया आयोजन

इस योग दिवस पर हमें नियमित योग करने का संकल्प लेना चाहिए

8वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर  सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के केंद्रीय संचार ब्यूरो, छपरा द्वारा 21 जून को बक्सर के डुमरांव स्थित सभापति मिश्रा इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन परिसर में योग शिविर सह जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मंत्रालय तथा संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस योग शिविर में बड़ी संख्या में प्रशिक्षु छात्र-छात्राओं, शिक्षकों एवं स्थानीय लोगों ने हिस्सा लिया। योगाभ्यास का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।  

योग शिविर को संचालित करते हुए आर्ट ऑफ लिविंग, बक्सर के योग प्रशिक्षक डॉ. श्वेत प्रकाश ने कहा कि जिस प्रकार हम शारीरिक विकास के लिए भोजन करते हैं, उसी प्रकार मनुष्य के सर्वांगीण विकास के लिए नियमित रूप से योग आवश्यक है। डॉ प्रकाश ने शिविर में शामिल छात्र-छात्राओं को खड़े होकर किए जाने वाले योगासनों जैसे – ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन त्रिकोणासन आदि का अभ्यास कराया। उन्होंने बैठकर, पेट एवं पीठ के बल लेटकर किए जाने वाले भी कई योगाभ्यास को कराया तथा उसके लाभ के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पटना स्थित केंद्रीय संचार ब्यूरो के कार्यक्रम प्रमुख एवं छपरा इकाई के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी पवन कुमार सिन्हा ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित इस योग शिविर का मुख्य उद्देश्य ना केवल लोगों को योग के विभिन्न आसनों, क्रियाओं व प्राणायामों के बारे में जानकारी देना और योगाभ्यास कराना है बल्कि इसे अधिक से अधिक घरों तक नियमित दिनचर्या के रुप में पहुंचाना भी है। हमें इस योग दिवस पर नियमित योग करने का संकल्प लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के बिहार स्थित क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा बक्सर सहित बिहार के 6 जिलों- पटना, नवादा, भागलपुर, मुंगेर, दरभंगा एवं सीतामढ़ी में इस प्रकार के योग शिविर सह जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

सभापति मिश्रा इंस्टिट्यूट ऑफ एजुकेशन, डुमरांव के निदेशक चंदन कुमार मिश्रा ने कहा कि योग हमारे मानसिक, शारीरिक एवं आध्यात्मिक विकास के लिए अति आवश्यक है। योग हमारे जीवन में आज पूरी तरीके से रच-बस गया है। मनुष्य जीवन को संतुलित रखने में योग आज अहम भूमिका निभा रहा है। आज हमारी युवा पीढ़ी जिस प्रकार से कम समय और संसाधन के साथ काम कर रही है, उसमें ऊर्जा का संचार कहीं ना कहीं योग कर रहा है। हमें यह विद्या हस्तांतरित करनी होगी, जिसके लिए हमें अपने अपने आसपास के वातावरण को योगमय बनाना होगा।

केंद्रीय संचार ब्यूरो, छपरा के सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी सर्वजीत सिंह ने कहा कि योग हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है। ऋषि-मुनियों के समय से ही योग एवं आध्यात्मिक के बल पर भारत विश्व गुरु रहा है। उन्होंने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि करोना के समय में जब हम अपने घरों में कैद थे तो हमें शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखने का काम योग ने ही किया। यही वह समय था जब योग ने अपनी पहुंच तकनीक के माध्यम से घरों तक बनाई। कहीं ना कहीं इसका श्रेय विश्व योग दिवस यानी 21 जून को जाता है। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रकार के आसनों को हम अपनी दैनिक जीवन में जब अपनाते हैं तो कई प्रकार की परेशानी स्वतः दूर हो जाती है। हमें योग दिवस के अवसर पर संकल्प लेना होगा कि हम योग को अपनाकर देश को निरोग रखने में अपनी सहभागिता निभाएंगे।

योग शिविर में मंत्रालय के पंजीकृत सांस्कृतिक दल भोजपुरी बिरहा की लक्ष्मी प्रियदर्शनी ने योग से जुड़े जागरुकता गीतों की प्रस्तुति की। इसके साथ योग के प्रति प्रशिक्षु छात्रों को जागरूक करने के उद्देश्य से उनके बीच प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में योग से जुड़े कई प्रश्न पूछे गए, जिसके सही जवाब देने वाले प्रतिभागियों में शामिल आकांक्षा मिश्रा,  सिंह कुंदन शिवशंकर, संतोष कुमार, द्वीपशिखा, प्रिया जैसवाल,  प्रिंस कुमार,  प्रिया पांडेय, विकास राय को मौके पर पुरस्कृत भी किया गया।

योग शिविर में आर्ट ऑफ लिविंग के स्टेट काउंसिल मेम्बर दीपक पांडे, डा. एस डी मिश्रा, मनोज चौहान, धीरज तिवारी, पीयूष त्रिपाठी, जे सिंह,  प्रदीप श्रीवास्तव सहित छात्र प्रतिनिधियों में वीणा मिश्रा,  रचना कुमारी, रति पांडे, अक्षरा सिंह, कुमार गौरव,  सारीक अंसारी,  अभिषेक कुमार, दीपशिखा, सुल्तान अंसारी, शिवानी सिंह, पवन द्विवेदी, अशोक कुमार मौजूद थे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *